कैसे पाएं विदेश में जॉब? जानें विदेश जाने के उपाय

कैसे पाएं विदेश में जॉब? जानें विदेश जाने के उपाय

विदेश में नौकरी

विदेश में जा कर नौकरी करना बहुत लोगों के लिए एक सपना होता है। अपने देश से बाहर काम करने के वैसे तो कई फ़ायदे हो सकते हैं लेकिन सबसे अच्छी बात यह है की आपको ज़्यादा पैसे के साथ-साथ एक बिलकुल ही नई संस्कृति का हिस्सा बनने का मौका मिलता है। इसके अलावा आपको अलग-अलग जगहों पर घूमने व नए रिश्ते बनाने का भी मौका मिलता है।

विदेश में नौकरी ढूंढते समय हमें कुछ बेहद अहम चीजों का ध्यान रखना होता है। जैसे:

  • आपको दूसरे देश में कैसी नौकरी चाहिए,
  • आप क्या-क्या काम करने में सक्षम हैं,
  • जिस देश में आप काम करना चाहते हैं क्या वह देश आसानी से प्रवासियों (immigrants) को नौकरी देता है,
  • आपको उस देश की भाषा की कितनी जानकारी है,
  • क्या आपका कोई रिश्तेदार या जानकार पहले से उस देश में काम करता है या कर चुका है आदि।

क्या आप किसी दूसरे देश में काम करने के लिए तैयार हैं? हम आपको यहाँ बताएंगे विदेश जाने के उपाय व दूसरे देश में नौकरी पाने के लिए क्या करना पड़ता है।

कैसे मिलेगी विदेश में नौकरी? (How to get a job in another country?)

किसी भी विदेश में काम करने के लिए सबसे अहम जरूरत होती है वीसा (Visa) की। बिना वर्क वीसा (Work Visa) के आप वहाँ काम नहीं कर सकते हैं व ऐसा करना कानूनन अपराध होता है। कम्पनियाँ आपको जॉब ऑफर करेंगी लेकिन अगर आपके पास वीसा नहीं होता है तो वह आपका वीसा स्पोंसर (Visa sponsor) करने में हिचकिचाहट कर सकते हैं।

विदेश में नौकरी पाने के लिए आप नीचे दिए स्टेप्स फॉलो कर सकते हैं:

1. शुरुआत करें विदेश में नौकरी ढूंढने से (Begin with searching a job abroad)

विदेश में नौकरी के लिए आवेदन करने का पहला और संभवतः सबसे चुनौतीपूर्ण काम ऐसी जॉब प्रोफाइल ढूँढना है जिनके लिए आप अप्लाई कर सकें। यह आपकी स्किल (skill), अनुभव (experience), इच्छा व आर्थिक स्थिति पर निर्भर करता है। साथ ही यह काम कठिन इसलिए है क्योंकि ऐसी कोई एक वेबसाइट नहीं है जो आपको आपकी जरूरतों के हिसाब से विदेशी नौकरियां दिखा दे। लेकिन नौकरियों की कोई कमी नहीं है आपको केवल यह पता होना चाहिए की तलाश कहाँ करनी है। आप विदेश में काम की तलाश इन तरीकों से कर सकते हैं:

नेटवर्किंग (Networking): आप अपने लिए विदेशी नौकरी की खोज सबसे पहले अपने जान पहचान वाले लोगों से बात कर के शुरू करें। अगर आपके कोई रिश्तेदार या दोस्त किसी दूसरे देश में काम करते हैं तो आप उनसे संपर्क करें व उनको बताएं की आप भी विदेश में काम तलाश रहे हैं व क्या वह किसी तरह की मदद कर सकते हैं। नेटवर्किंग बहुत ही असरदार होती है व आप जितने ज़्यादा लोगों से संपर्क करते हैं आपको जल्दी नौकरी मिलने की संभावना उतनी ही बढ़ जाती है।

नोट : फेसबुक (Facebook) पर ऐसे बहुत से ग्रुप हैं जिनमे लोग विदेश में नौकरियों के बारे में पोस्ट करते हैं। आप ऐसे ग्रुप में जुड़ सकते हैं व ग्रुप के सदस्यों से बात कर नेटवर्किंग कर सकते हैं। ऐसे ग्रुप ढूंढने के लिए अपने फेसबुक में लिखें ‘Jobs Abroad’ और ‘Groups’ ऑप्शन सेलेक्ट करें।

फेसबुक विदेशी जॉब ग्रुप

नौकरी मेला (Job Fair): बहुत सी कम्पनियाँ समय-समय पर नौकरी मेले (Job fairs) आयोजित करती रहती हैं। इन नौकरी मेलों में जरूर भाग लें। यहाँ से न केवल आपको यह पता लगेगा की कौनसी कम्पनियाँ विदेश में कैसा काम देती हैं साथ ही आप तभी इंटरव्यू दे कर अप्लाई भी कर सकते हैं।
नौकरी मेले खोजने के लिए आप गूगल पर ‘Abroad job fair’ या ‘Foreign job fair’ सर्च कर सकते हैं।


जॉब सर्च इंजन (Job Search Engine): ऐसी बहुत सी वेबसाइट हैं जो विदेश में काम ढूंढने में मदद कर सकती हैं। हालांकि यह काम मुश्किल इसलिए हो जाता है क्योंकि आप जिस देश में नौकरी ढूंढ रहे हैं आपको उस देश के जॉब सर्च इंजन पर जा कर सर्च करना होता है। उदाहरण के तौर पर भारत में नौकरी ढूंढने के लिए Naukri.com अच्छी वेबसाइट है लेकिन आपको अगर सऊदी अरब (Saudi Arabia) या कुवैत (Kuwait) जैसे देशों में नौकरी करनी है तो आपको Naukrigulf.com या Bayt.com पर ढूँढना चाहिए क्योंकि यह उन देशों में नौकरी ढूंढने के लिए बेहतर वेबसाइट हैं।

MonsterIndia.com पर कुवैत में नौकरी की एक लिस्टिंग

एजेंसी और रिक्रूटर (Agency or Recruiter): ऐसी बहुत सारी एजेंसियां (agencies) होती हैं जो आपको विदेश में नौकरी दिलाने का काम करती हैं। इन्हें ओवरसीज रिक्रूटमेंट एजेंसी (Overseas Recruitment Agency) भी कहते हैं व आप अपने आस पास ऐसी एजेंसी ढूंढ सकते हैं। लेकिन एक बात का ख़ास ख्याल रखें। किसी भी विदेश में काम दिलाने वाली एजेंसी को पैसा या कागजात देने से पहले जाँच पड़ताल कर अच्छे से जान लें की कहीं वह फ़र्जी तो नहीं। ऐसी बहुत सी कम्पनियाँ होती हैं जो विदेश ले जाने के नाम पर धोखाधड़ी कर पैसा ले लेती हैं व बाद में गायब हो जाती हैं इसलिए आपका जाँच परख करना बहुत जरूरी है।

साथ ही हो सकता है आपसे जो यह एजेन्सियाँ एग्रीमेंट (agreement) साइन कराएँ उसमें यह आपकी सैलरी का एक हिस्सा फीस (Fees) के तौर पर निरंतर मांग करें।। ऐसे में आपका एग्रीमेंट को अच्छे से पढ़ना बहुत जरूरी हो जाता है। हो सके तो किसी वकील को एग्रीमेंट दिखा कर सलाह ले लें।

नोट: अपने आस पास विदेश भेजने वाली कंपनी के ऑफिस का पता करने के लिए गूगल पर आप ‘Overseas Recruitment Agency office near me’ लिख कर सर्च कर सकते हैं।

2: नौकरी के लिए अप्लाई करें (Apply for the foreign job)

नौकरी ढूढ़ने के बाद आता है उस विदेशी नौकरी के लिए अप्लाई करना। विदेश में नौकरी के लिए अप्लाई करने के लिए आपको जिस चैनल से नौकरी के बारे में पता लगा है वह महत्वपूर्ण होता है। मान लीजिये आपको एक जॉब फेयर से अमेरिका (America) में किसी नौकरी के बारे में पता लगा है तो सबसे सही यही होगा की आप उस नौकरी के लिए जॉब फेयर में ही अप्लाई कर दें। इसी तरह से अगर आपको ऑनलाइन उस जॉब के बारे में पता लगा है तो आप वहाँ से उस नौकरी के बारे में अच्छे से पढ़ें व ऑनलाइन ही अप्लाई कर दें।

नोट : इसके साथ जिस देश में काम करने के लिए आप अप्लाई कर रहे हैं वहाँ के नियम व जरूरतों को अच्छे से जान लें। इसके लिए आप गूगल पर ‘How to apply for a job in Dubai‘ इस प्रकार से सर्च कर सकते हैं।

3. वीसा के लिए अप्लाई करें (Apply for Visa)

अगर आपको किसी दूसरे देश में नौकरी मिल गई है तो आपका काम यहीं खत्म नहीं होता। वीसा और वर्क परमिट (Visa and Work Permit) मिलने में काफी समय व पैसा लग सकता है। पासपोर्ट तो किसी भी दूसरे देश में जाने के लिए एक बुनियादी जरूरत होती ही है इसके साथ साथ हो सकता है आपको बहुत सारे और डॉक्यूमेंट जैसे मेडिकल रिपोर्ट, पुलिस रिपोर्ट आदि भी जमा करना पड़े। इसीलिए यह बहुत जरूरी हो जाता है की आपको पूरे वीसा प्रोसेस की व जरूरी कागजाद के बारें में अच्छे से जानकारी है। वीसा प्रोसेस के बारें में पूरी जानकारी अधिकतर उस देश की एम्बेसी (Embassy) की वेबसाइट से मिल जाती है। आप वहाँ से पढ़ सकते हैं या आप एम्बेसी में जा कर पता कर सकते हैं।

यदि आपको नौकरी किसी विदेशी जॉब दिलाने वाली एजेंसी के द्वारा मिलती है तो आपकी वीसा लेने में यह एजेन्सियाँ मदद कर सकती हैं। हो सकता है यह इसके लिए आपसे थोड़ा ज़्यादा पैसा चार्ज करें लेकिन इसका फ़ायदा यह होता है की आप दफ्तरों के चक्कर काटने से बच जाते हैं।

नोट : यह बहुत जरूरी है की आपको विदेश जाने के लिए वीसा प्रोसेस (Visa process) की अच्छे से जानकारी हो। बेहतर यही होगा की आप किसी भी दूसरे देश में नौकरी के लिए अप्लाई करने से पहले उस देश के वीसा के लिए जरूरतों को अच्छे से समझ लें व उसके बाद ही अप्लाई करें।

विदेश में नौकरी सम्बन्धी सामान्य सवाल – Jobs Abroad : FAQ

कौनसे देशों में आसानी से मिलती है नौकरी?

वैसे तो लगभग सभी देश दूसरे देशों के कार्यबल (workforce) को उनके यहाँ काम करने की अनुमति देते हैं लेकिन यह उस देश पर निर्भर करता है की वह किस तरह के काम के लिए बाहर के लोगों को अनुमति प्रदान करते हैं। यह काफ़ी हद तक नौकरी के क्षेत्र (जैसे सॉफ्टवेयर, लेबर, मेडिकल आदि) व जिस देश में आप जाना चाहते हैं उस देश के आप्रवासी कार्यबल के प्रति नियमों पर भी निर्भर करता है।

उदहारण के तौर पर अमेरिका में भारत से बहुत से इंजीनियर, सॉफ्टवेयर सम्बन्धी नौकरियों के लिए जाते हैं वहीं दुबई में लेबर से जुड़े कार्यों के लिए भारत से बहुत लोग हर वर्ष जाते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इन देशों में इसी तरीके के कार्यबल की जरूरत होती है।

कौनसे देश देते हैं सबसे ज़्यादा पैसा?

आम तौर पर विकसित देश जैसे अमेरिका, स्विट्ज़रलैंड, आइसलैंड, कनाडा आदि आपको ज़्यादा पैसा देते हैं। लेकिन ध्यान रखने वाली बात यह है की इन देशों में नौकरी मिल पाना भी उतना ही मुश्किल होता है। साथ ही पैसा वह किस तरह की नौकरी है इस पर भी निर्भर करता है।

कैसे ढूंढें विदेश भेजने वाली कंपनी?

यहाँ विदेश भेजने वाली कंपनी दो तरह की हो सकती है। पहली वह कंपनी जो एक एजेंसी के तौर पर काम करे व लोगों को विदेश में काम दिलाए। दूसरी ऐसी कंपनी जो आपको यहाँ नौकरी दे व बाद में काम करने के लिए अपने विदेशी ऑफिस में भेज दे।

विदेश भेजने वाली एजेंसी की बात करें तो आप इनको गूगल पर ‘Overseas placement agency near me’ लिख कर सर्च कर सकते हैं। ध्यान रहे आप जिस भी एजेंसी को चुनें उसके बारे में जाँच पड़ताल कर लें व किसी भी कागज को साइन करने से पहले अच्छे से पढ़ लें।

यदि आप भारत में नौकरी शुरू कर बाद में कम्पनी के विदेशी ऑफिस में जाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको ऐसी कम्पनी की तलाश करनी होगी जिसके क्लाइंट्स या ऑफिसेस (clients or offices) दूसरे देशों में हैं। सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट (software development) क्षेत्र में ऐसा अक्सर होता है की कम्पनी आपको ऑन साइट (on-site) भेज दे। ऐसी ही कुछ कम्पनियाँ हैं Tata Consultancy Services (TCS), Tech Mahindra, Infosys आदि।

कितनी पढाई जरूरी है विदेश में नौकरी के लिए?

कितनी पढ़ाई की ज़रूरत होती है यह उस क्षेत्र पर निर्भर करता है जिसमें आप काम करना चाहते हैं। यदि आप वाइट कालर जॉब (white collar job) चाहते हैं तो आपका ग्रेजुएट (graduate) होना तो आवश्यक होता ही है और यदि आप लेबर (labour) सम्बन्धी काम करना चाहते हैं तो शायद आपको पढ़ाई की ज़रूरत ना हो। साथ ही हो सकता है आपको जिस क्षेत्र में काम चाहिए उस क्षेत्र में काम देने वाली विदेशी कम्पनियाँ आपसे अनुभव (experience) की भी मांग करें। यदि आपने दसवीं कक्षा पास किया है तो आपका पासपोर्ट भी आपको Non-ECR मिलता है।

Leave a Comment