Sukanya Samriddhi Yojana

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)


सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) बालिकाओं के लाभ के लिए “बेटी बचाओ, बेटी पढाओ योजना” के अंतर्गत सरकार समर्थित बचत योजना है। यह योजना माता पिता को अपनी बालिका की शिक्षा और शादी के खर्चों के लिए एक फंड बनाने के लिए प्रोत्साहित करती है। इस योजना के अंतर्गत मात्र ₹250 में किसी भी बैंक/पोस्ट ऑफ़िस में खाता खुलवाया जा सकता है। जमा किये गए पैसे पर वार्षिक रूप से ब्याज (interest) खाते में जमा किया जाता है।

शुरुआत22 जनवरी 2015
उद्देश्यमाता पिता को अपनी बालिका की शिक्षा और शादी के खर्चों के लिए पूंजी संग्रहित करने के लिए प्रोत्साहित करना।
लाभजमा की गई राशि पर निश्चित ब्याज और आय कर में छूट।
वर्तमान ब्याज दर8.40%
पात्रता
  • किसी भी वर्ग, जाति, समुदाय, धर्म इत्यादि के लोग इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
  • योजना के अंतर्गत खाता चालू करवाने के लिए बालिकाओं की आयु 1 वर्ष से 10 वर्ष तक के मध्य होनी आवश्यक है।
  • केवल दो बालिकाओं के लिए खाता खोलने की अनुमति है। (पूर्ण जानकारी निचे अंकित है।)
कौन कर सकता है निवेश अभिभावकों/वैध संरक्षक के द्वारा खाते का संचालन किया जाएगा।
कहाँ खुलवाए खाताकिसी भी बैंक शाखा या डाकघर में। ब्याज दर हर जगह समान होगी।
ज़रूरी दस्तावेजबालिका का जन्म प्रमाण पत्र और अभिभावक का पहचान प्रमाण पत्र व स्थायी/आवासीय प्रमाण पत्र।
न्यूनतम निवेश राशि₹250
कब तक चलाना होगा खाताखाता खोलना की तिथि से 21 वर्ष तक। समय से पहले भी बंद करने का प्रावधान है।
लाभान्वितों की संख्या1.52 करोड़ (जनवरी 2020 तक)
आवेदन फ़ॉर्मDownload
हेल्पलाइन नंबर (Toll Free) 011-26862526 (www.nari.nic.in)

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है?

बालिकाओं के कल्याण को बढ़ावा देने हेतु केंद्र सरकार द्वारा 2 दिसंबर 2014 को “सुकन्या समृद्धि खाता नियम, 2014” (Sukanya Samriddhi Account Rules,2014) की शुरुआत की गई। यह योजना प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” स्कीम के अंतर्गत 22 जनवरी 2015 को हरियाणा के पानीपत से शुरू की गई।

इस योजना का लाभ बेटियों की उच्च शिक्षा व उनके विवाह हेतु होगा। जिसे अभिभावकों/संरक्षक के लिए सभी छोटी बचत योजनाओं की अपेक्षा महत्वपूर्ण व अति लाभदायक योजना बताया गया है। दीर्घावधि के लिए इस योजना में एक अच्छा ख़ासा बड़ा फंड तैयार हो जाता है, जो बालिकाओं के 18 वर्ष के उपरांत उच्च शिक्षा हेतु 50% निकाला भी जा सकता है।

SSY के अंतर्गत अभिभावकों को सेक्शन 80C के तहत आयकर में छूट भी प्रदान की जाती है, अर्थात निवेश की गई राशि, उस पर बने ब्याज, और निकाले गए पैसे पर कोई भी टैक्स नहीं लगेगा। इस योजना को संचालित करने के लिए अभिभावक/संरक्षक(माता/पिता) किसी भी बैंक शाखा/पोस्ट ऑफ़िस में सुकन्या समृद्धि खाता(SSA) मात्र ₹250 में खुलवा सकते हैं। हालांकि पहले खाता खुलवाने के लिए न्यूनतम राशि 1000 रुपये थी जिसे वर्ष 2019 में बदल कर 250 रुपये कर दिया गया है। खाते में राशि; खाता खोलने की दिनांक से 14 वर्ष तक ही जमा की जाएगी। योजना के अंतर्गत खाता खोलने की तिथि से 21 वर्ष पूरे होने पर ही खाता परिपक्व होगा।


सुकन्या समृद्धि अकाउंट किस प्रकार खोलें?

Sukanya Samriddhi Yojana Account opening process
  • योजना से जुडी पात्रताओं से अवगत हो जाये। सभी पात्रताएं निचे अंकित है।
  • अभिभावक द्वारा नज़दीकी बैंक या डाकघर में SSY (Sukanya Samriddhi Yojana) से सम्बन्धित एक फ़ॉर्म को अनिवार्य दस्तावेज़ो के साथ भरकर जमा करना होगा। सभी दस्तावेज़ निचे अंकित है।
  • यहां अभिभावकों के द्वारा SSY के अंतर्गत न्यूनतम राशि ₹250 देय होगी।
  • खाता खुलने के पश्चात अभिभावक को एक SSA (Sukanya Samriddhi Account) पासबुक दी जाएगी, जिसमें बालिका की जन्म-तिथि, खाता खोलने की तारीख़, खाता संख्या, खाता धारक का नाम व पता और जमा की गई धन राशि का उल्लेख होगा।
  • पासबुक; खाते में रकम जमा करते समय, परिपक्वता पर खाते से जमा धन राशि निकालते समय, खाते को बंद करते समय, डाकघर व बैंक में प्रस्तुत की जानी अनिवार्य है।
  • खाता जिस बालिका के नाम से खोला गया है, उसके 10 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक अभिभावक/संरक्षक द्वारा ही खाते को संचालित किया जाएगा।
  • 10 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर, खाताधारक जो बालिका है वह स्वयं खाता संचालित कर सकती है, हालाँकि, खाते में राशि अभिभावक या किसी अन्य व्यक्ति या प्राधिकारी द्वारा भी जमा की जा सकती है।
  • योजना के अंतर्गत खाते को भारत में कहीं भी एक बैंक/डाकघर से दूसरे में स्थानांतरित (Transfer) किया जा सकता है।

योजना के लिए पात्रता – Eligibility

  • इस योजना के अंतर्गत अभिभावक/वैध संरक्षक 1 साल से 10 साल तक की बालिका का केवल एक खाता उसके नाम से किसी भी बैंक अथवा डाकघर में खुलवा सकते हैं।
  • किसी भी वर्ग, जाति, समुदाय, धर्म इत्यादि के लोग इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
  • भारतीय नागरिक होना आवश्यक है।
  • एक परिवार से केवल 2 बालिकाओं का ही SSA खाता खोला जाता है।
  • यदि अभिभावक दूसरे प्रसव के समय जुड़वा बालिकाओं को जन्म देते हैं, या पहले बच्चे के समय एक साथ 3 बालिकाओं को जन्म देते हैं तो इस स्थिति में 3 SSA खाते खोले जा सकते है।

ज़रूरी दस्तावेज – Required Documents

  • बालिका (खाता-धारक) का जन्म प्रमाण पत्र
  • अभिभावक/वैध संरक्षक का पहचान प्रमाण पत्र
  • अभिभावक/वैध संरक्षक का स्थायी/आवासीय प्रमाण पत्र

SSA ऑनलाइन खाता

मौजूदा समय में न तो कोई अधिकृत बैंक शाखाएँ और न ही डाकघर SSY खाता ऑनलाइन खोलने की अनुमति देते हैं। लेकिन सभी दस्तावेजों को जमा करने के बाद, खाता खुलने के पश्चात; आप खाते का ऑनलाइन संचालन(राशि जमा/पासबुक अपडेट)कर सकते हैं।


SSY में निवेश प्रक्रिया – SSY Investment

  • अभिभावक द्वारा किसी भी डाकघर अथवा बैंक में (जहां खाता खुला है) SSY के तहत नक़द राशि (फ़ॉर्म न 1) भरकर जमा की जा सकती है। फ़ॉर्म डाकघर अथवा बैंक में उपलब्ध रहते हैं।
  • अभिभावक सम्बंधित डाकघर के डाकपाल या सम्बंधित बैंक के प्रबंधक के नाम से चेक अथवा डिमांड ड्राफ़्ट के द्वारा भी SSA में निवेश कर सकता है।
  • चेक अथवा डिमांड ड्राफ़्ट पर जमाकर्ता के हस्ताक्षर और खाता धारक का नाम और खाता संख्या उल्लेखित होनी चाहिए।
  • ऑनलाइन ट्रांसफर / इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से भी अभिभावक खाते में पैसे जमा कर सकता है।
  • खाता न्यूनतम राशि ₹250 में खोला जा सकता है, अथवा 3 अंकों की कोई भी राशि या उसके गुणा 100 होने पर प्राप्त राशि SSA में जमा हो सकती है। उदाहरण के तौर पर 250,500,444,305 अथवा 11*100=1100, 999*100=99900 SSA में जमा की जा सकती है।
  • एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम ₹150000 जमा हो सकते है।
  • एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम ₹250 जमा करवाने अनिवार्य होते हैं।
  • यदि एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम राशि जमा नही हुई है तो खाता बंद कर दिया जाता है इस स्थिति में अभिभावक द्वारा ₹50 जुर्माने के तौर पर देने के पश्चात खाता पुनः चालू कर दिया जाता है।
  • अभिभावक SSA खाते में प्रत्येक महीने भी निवेश कर सकते हैं।
  • खाते में राशि खाता खोलने की दिनांक से 14 वर्ष तक ही जमा होती है।
  • योजना के अंतर्गत खाता खोलने की तिथि से 21 वर्ष पूरे होने पर ही खाता परिपक्व होगा।

SSY में कितना ब्याज मिलता है? – Interest Rate

  • ब्याज के रूप में सरकार द्वारा समय-समय पर अधिसूचित किया जा सकता है।
  • ब्याज दर सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष में कभी भी बदली जा सकती है और यह निरंतर बदलती भी रहती है।
  • अभिभावक द्वारा 14 वर्षों तक किए गए निवेश के आधार पर ही SSA के अंतर्गत ब्याज का लाभ प्राप्त होता है।
  • भारत सरकार की अधिसूचना के अनुसार मासिक आधार पर ब्याज के भुगतान का विकल्प जिसकी गणना पूर्ण हज़ार रुपयों में की जाएगी उसके साथ वार्षिक रूप से संयोजित (वर्तमान दर 8.40% 1 अक्टूबर 2019 से प्रभावी)

SSA से पैसे निकालने का प्रावधान – Withdrawal Process

  • खाताधारक की आयु 18 वर्ष होने पर या 10वीं उत्तीर्ण होने के पश्चात (जो भी पहले हो) उसके द्वारा खाते से उच्च शिक्षा के लिए 50% तक धनराशि निकाली जा सकती है। यह 50% धन राशि पिछले वित्तीय वर्ष के अंत (31 मार्च) में शेष राशि की होगी।
  • 50% धन राशि एक साथ या एक किश्त प्रति साल (अधिकतम ५ साल के लिए) के हिसाब से निकली जा सकती है।
  • इस राशि को निकले हेतु प्रवेश की पुष्टि करने वाले दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी। अन्यथा प्रवेश हेतु वित्तीय आवश्यकता को स्पष्ट करने वाली संस्था से शुल्क पर्ची (Fee Slip) की जरूरत पड़ेगी।
  • निकासी की राशि प्रवेश के समय शुल्क की वास्तविक मांग और आवश्यक अन्य शुल्कों तक ही सीमित रहेगी।
  • खाताधारक की मृत्यु होने की दिशा में, मृत्यु प्रमाण पत्र प्रस्तुत किए जाने के उपरांत खाते को शाखा सम्बंधित अधिकारी द्वारा तुरंत प्रभाव से बंद कर दिया जाएगा। और खाते में जमा रकम ब्याज सहित धारक को प्रदान कर दी जाती है।
  • योजना के अंतर्गत खाता खोलने की तिथि से 21 वर्ष पूरे होने पर ही खाता परिपक्व होगा। तथा इस स्थिति में खाताधारक के द्वारा खाते की पासबुक प्रस्तुत किए जाने के उपरांत ही खाते में जमा रकम ब्याज सहित प्रदान कर दी जाएगी।

SSA को बंद कैसे करें? – Account Closure

  • यदि किन्ही अत्यधिक गंभीर (उपचार करवाने हेतु पैसे, मृत्यु इत्यादि) कारणों के लिए भी खाते को समयपूर्व बंद कर दिया जाता है। और खाते में जमा रकम ब्याज सहित धारक को प्रदान कर दी जाती है।
  • यदि बालिका का विवाह 18 वर्ष के बाद 21 वर्ष से पहले हो जाता है तो खाता धारक को खाता संचालित करने की अनुमति नहीं दी जाएगी और खाते को बंद कर दिया जाएगा, हालांकि शादी प्रमाण पत्र और अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज़ो को दिखाने के पश्चात खाते में जमा राशि खाता धारक को दे दी जाएगी।
  • यदि खाता खोलने के बाद बालिका(खाता धारक) किसी और देश में चली जाती है और वहां की नागरिकता ले लेती है तो नागरिकता लेने के दिन से सुकन्या समृद्धि योजना खाते में जमा रकम पर ब्याज मिलना बंद हो जायेगा।
  • माता – पिता या कानूनी अभिभावक की मृत्यु हो जाने की स्थिति में खाते को बंद कर दिया जाएगा और परिपक्वता (Maturity) लाभ बालिका को दे दिया जायेगा।

वार्षिक योगदान तालिका – Yearly Contribution Table

निवेश राशि (वार्षिक)निवेश राशि (14 वर्ष)परिपक्वता राशि (21 वर्ष)
₹1000₹14,000₹46,821
₹2000₹28,000₹93,643
₹5000₹70,000₹2,34,107
₹10000₹1,40,000₹4,68,215
₹20000₹2,80,000₹9,36,429
₹50000₹7,00,000₹23,41,073
₹100000₹14,00,000₹46,82,146
₹125000₹17,50,000₹58,52,683
₹150000₹21,00,000₹70,23,219

मासिक योगदान तालिका – Monthly Contribution Table

निवेश राशि (मासिक)निवेश राशि (मासिक)परिपक्वता राशि (21 वर्ष)
₹1000₹1,68,000₹5,42,122
₹2000₹3,36,000₹10,84,243
₹3000₹5,04,000₹16,26,365
₹4000₹6,72,000₹21,68,486
₹5000₹8,40,000₹27,10,608
₹6000₹10,08,000₹32,52,730
₹7000₹11,76,000₹37,94,851
₹8000₹13,44,000₹43,36,973
₹9000₹15,12,000₹48,79,095
₹10000₹16,80,000₹54,21,216
₹12500₹21,00,000₹67,76,520
  • SSY के अंतर्गत ब्याज -दर निरंतर बदलती रहती है तो आप SSY की अधिक जानकारी एवं सक्रियता के लिए इस सरकारी वेबसाइट पर जा सकते हैं।

जानिए किन्हें और कैसे मिलेगा प्रधानमंत्री सुकन्या योजना का लाभ?

Leave a Comment